Maa Durga Arti complete in Hindi
0 1 min 2 mths
0 0
Spread the love
Read Time:5 Minute, 56 Second

Maa Durga Arti complete in Hindi

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी।
तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवरी॥

जय अम्बे गौरी…

मांग सिंदूर विराजत, टिको मृगमद को।
उज्ज्वल से दो नैना, चंद्र वदन नीको॥

जय अम्बे गौरी…

कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजे।
रक्त पुष्प गल माला, कंठन पर साजे॥

जय अम्बे गौरी…

केहरि वाहन राजत, खड्ग खपारी।
उच्छिष्ट चंद्र दिवाकर, सम राजत ज्योति॥

जय अम्बे गौरी…

शुम्भ निशुम्भ विदारे, महिषासुर घाती।
धूम्र विलोचन नैना, निशधिन मध माती॥

जय अम्बे गौरी…

चंचल भ्रमर सेवक, राजित खड्ग खाटी।
श्रीजयति श्वेत चंद्र भ्रमर भर नारी॥

जय अम्बे गौरी…

कन्दरपद तन अवधूत, ध्यानिन रूप धारी।
ब्रह्म मुरारि प्रकटे, महेश धारी॥

जय अम्बे गौरी…

बाहों बैद्यनाथ आरती, अंबिका माती।
कीन्हे कर विजया, पाठि करत पूति॥

जय अम्बे गौरी…

भूत पिसाच निकट नहिं आवे, महबीर जब नाम सुनावे।
नासे रोग हरे सब पीरा, जपत निरंतर हनुमत बीरा॥

जय अम्बे गौरी…

संकट ते हनुमान छुड़ावे।
मन क्रम वचन ध्यान जो लावे॥

जय अम्बे गौरी…

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिनके काज सकल तुम साजा॥

जय अम्बे गौरी…

और मनोरथ जो कोई लावे।
सोई अमित जीवन फल पावे॥

जय अम्बे गौरी…

चारों युग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा॥

जय अम्बे गौरी…

साधु संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे॥

जय अम्बे गौरी…

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस वर दीन जानकी माता॥

जय अम्बे गौरी…

रामरसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा॥

जय अम्बे गौरी…

तुम्हरी शरण तुम्हे को आवे।
तरण हार दूख हमारे॥

जय अम्बे गौरी…

आपन तेज सम्हारो आपे।
तीनों लोक हांक तें कांपे॥

जय अम्बे गौरी…

भूत पिशाच निकट नहिं आवे।
महाबीर जब नाम सुनावे॥

जय अम्बे गौरी…

नासे रोग हरे सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बलबीरा॥

जय अम्बे गौरी…

संकट ते हनुमान छुड़ावे।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावे॥

जय अम्बे गौरी…

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिनके काज सकल तुम साजा॥

जय अम्बे गौरी…

और मनोरथ जो कोई लावे।
सोई अमित जीवन फल पावे॥

जय अम्बे गौरी…

चारों युग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा॥

जय अम्बे गौरी…

साधु संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे॥

जय अम्बे गौरी…

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस वर दीन जानकी माता॥

जय अम्बे गौरी…

रामरसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा॥

जय अम्बे गौरी…

तुम्हरी शरण तुम्हे को आवे।
तरण हार दूख हमारे॥

जय अम्बे गौरी…

आपन तेज सम्हारो आपे।
तीनों लोक हांक तें कांपे॥

जय अम्बे गौरी…

भूत पिशाच निकट नहिं आवे।
महाबीर जब नाम सुनावे॥

जय अम्बे गौरी…

नासे रोग हरे सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बलबीरा॥

जय अम्बे गौरी…

संकट ते हनुमान छुड़ावे।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावे॥

जय अम्बे गौरी…

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिनके काज सकल तुम साजा॥

जय अम्बे गौरी…

और मनोरथ जो कोई लावे।
सोई अमित जीवन फल पावे॥

जय अम्बे गौरी…

चारों युग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा॥

जय अम्बे गौरी…

साधु संत के तुम रखवारे।
असुर निकंदन राम दुलारे॥

जय अम्बे गौरी…

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता।
अस वर दीन जानकी माता॥

जय अम्बे गौरी…

रामरसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा॥

जय अम्बे गौरी…

तुम्हरी शरण तुम्हे को आवे।
तरण हार दूख हमारे॥

जय अम्बे गौरी…

आपन तेज सम्हारो आपे।
तीनों लोक हांक तें कांपे॥

जय अम्बे गौरी…

भूत पिशाच निकट नहिं आवे।
महाबीर जब नाम सुनावे॥

जय अम्बे गौरी…

नासे रोग हरे सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बलबीरा॥

जय अम्बे गौरी…

संकट ते हनुमान छुड़ावे।
मन क्रम बचन ध्यान जो लावे॥

जय अम्बे गौरी…

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिनके काज सकल तुम साजा॥

जय अम्बे गौरी…

और मनोरथ जो कोई लावे।
सोई अमित जीवन फल पावे॥

जय अम्बे गौरी…

चारों युग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा॥

जय अम्बे गौरी…

Also Read:Durga Chalisa दुर्गा चालीसा का पूरा पाठ 

Also Read:shiv chalisa in hindi शिव चालिसा कितनी बार पढ़ना जरूरी है शिव चालिसा के नियमों का पालन न करने पर क्या हो सकता है

Also Read:गुगल सर्च में घट रही Kaitrina की लोकप्रियता kaitrina kaif

About Post Author

Anjana Kashyap

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %