Maa Durga Arti complete in Hindi
0 1 min 2 mths
0 0
Spread the love
Read Time:3 Minute, 6 Second

Durga Chalisa दुर्गा चालीसा का पूरा पाठ

नमो नमो दुर्गे सुख करनी।
नमो नमो अम्बे दुःख हरनी॥

त्राहि त्राहि दुर्गे देवि, निरंकार विराजत निरालम्बे।
असुर निकंदन निरंजन निर्मल भरती, नीराज निराकार उमाँगज्ज्वाला करूणासागर, जय जय जय अनपुरानि॥

त्रिभुवन भवानि जय, माँ भवानि, दुःख हरनि तारिणि।
त्राहि त्राहि दुर्गे देवि, कार्य सिद्धि करित अवतारिणि॥

देवन देव जग जननि, सेवक सुर नर मुनि जन वंदनि।
सेवक सुर नर मुनि जन वंदनि, त्राहि त्राहि दुर्गे देवि, दुर्गा चालिसा फल पारिणि॥

शुम्भ-निशुम्भ विदारीणि, महिषासुर घातिनि।
महिषासुर घातिनि, चंड-मुंड निर्धारिणि।
रक्तबीज शोणित बीज सन्ताप त्रात्रि भव भयहारिणि॥

ब्रह्माणी रुद्राणि तुम कमला रानी, अघनिरासिनि।
अघनिरासिनि, जय जय जय अनपुरानि॥

रक्तबीज शंकर तनय राधिका, मातु भवानी, जय श्री महिषासुरमर्दिनि।
सोहनि चंड अति सुंदरी, बिच्छिटि अति शोभित नाम तिहारी॥

सुरनर मुनि जन पूजित, मद से त्रिभुवन मोहित रचित, त्रिभुवन भानि।
त्राहि त्राहि दुर्गे देवि, सभी फल की वांछित फल दातिनि॥

जय जय जय अनपुरानि, जय भवानि जय जय जय अनपुरानि॥

सिद्धि दात्री जय, माँ जय माँ महिषासुरमर्दिनि।
सिद्धि दात्री जय, माँ जय माँ महिषासुरमर्दिनि॥

सुर विमल याचित सिद्धि विलासित जन, देहु भवानि, जय महिषासुरमर्दिनि।
जय जय जय अनपुरानि, जय भवानि जय जय जय अनपुरानि॥

त्राहि त्राहि दुर्गे देवि, शत्रु नाशक साधु जन हितकारिणि।
त्राहि त्राहि दुर्गे देवि, त्राहि त्राहि दुर्गे देवि॥

नमो नमो दुर्गे सुख करनी।
नमो नमो अम्बे दुःख हरनी॥

Also read:shiv chalisa in hindi शिव चालिसा कितनी बार पढ़ना जरूरी है शिव चालिसा के नियमों का पालन न करने पर क्या हो सकता है

Also read:हनुमान चालिस कितनी बार पढ़ना जरूरी है इसके नियम क्या हैं hanuman chalisa lyrics in Hindi

Also read:World Earth Day: विश्व पृथ्वी दिवस कब और क्यों मनाया जाता है पृथ्वी दिवस का जनक किसे कहा जाता है

Also read:World Earth Day: विश्व पृथ्वी दिवस कब और क्यों मनाया जाता है पृथ्वी दिवस का जनक किसे कहा जाता है

About Post Author

Anjana Kashyap

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %