delhi water crisis
0 1 min 1 week
0 0
Spread the love
Read Time:8 Minute, 21 Second

delhi water crisis: अगले 1-2 दिनों में राजधानी के हर इलाके में खड़ी हो सकती है बड़ी समस्या दिल्ली में गहरा सकता है जलसंकट

नई दिल्ली(delhi water crisis) पहले से पीने के पानी की भारी किल्लत झेल रही देश की राजधानी दिल्ली में भीषण गर्मी के बीच जलसंकट और गहरा सकता है। दरअसल, हरियाणा द्वारा दिल्ली को मुनक नहर के जरिए लगातार कम मिलते पानी के मुद्दे पर जलमंत्री आतिशी ने रविवार को हरियाणा के सीएम नायब सैनी को पत्र लिख कर मुनक नहर के जरिए दिल्ली को उसके हिस्से का पर्याप्त पानी देने की मांग की।

दिल्ली के हर इलाके में पानी की बड़ी समस्या खड़ी हो जाएगी delhi water crisis

जलमंत्री आतिशी ने कहा कि अगर हरियाणा ने दिल्ली को पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं दिया तो अगले 1-2 दिनों में दिल्ली के हर इलाके में पानी की बड़ी समस्या खड़ी हो जाएगी। उन्होंने कहकर कि, अपर यमुना रिवर बोर्ड में 2018 के दिल्ली-हरियाणा के बीच हुए समझौते के अनुसार दिल्ली को मुनक नहर से प्रतिदिन 1050 क्यूसेक पानी मिलना चाहिए। गर्मियों के समय बवाना कांटैक्ट पॉइंट पर मुनक नहर से 980 से 1030 क्यूसेक पानी पहुंचता है लेकिन पिछले एक सप्ताह में इसमें भारी कमी आई है।

मुनक नहर से दिल्ली को मिलने वाले पानी की मात्रा 840 क्यूसेक पहुंची delhi water crisis

जल मंत्री ने कहा कि मुनक नहर से दिल्ली को मिलने वाले पानी की मात्रा 840 क्यूसेक पहुंची, इससे दिल्ली के सातों वाटर ट्रीटमेंट प्लांट बुरी तरह प्रभावित होंगे ऐसे में दिल्ली के लोगों को जलसंकट का सामना न करना पड़े इसलिए हरियाणा के सीएम मुनक नहर से दिल्ली को उसके हिस्से का 1050 क्यूसेक पानी छोड़ा जाना सुनिश्चित करें। आतिशी ने हरियाणा के मुख्यमंत्री नायब सैनी को लिखी चिऋी में, हरियाणा द्वारा यमुना नदी में पानी न छोड़े जाने के मुद्दे पर उन्हें बतौर मुख्यमंत्री तत्काल हस्तक्षेप करने की मांग की।

न तो कोई उचित कदम उठाया गया और न ही जवाब मिला delhi water crisis

उन्होंने कहा कि, इस मुद्दे पर पिछले कई दिनों में लगातार पत्र लिखने के बावजूद न तो कोई उचित कदम उठाया गया और न ही जवाब मिला। उन्होंने चिऋी में लिखा कि दिल्ली अपनी रोजमर्रा की जरूरतों के लिए यमुना के पानी पर निर्भर है। और पिछले कुछ दिनों से हरियाणा मुनक नहर से दिल्ली को उसके हिस्से का पानी पर्याप्त मात्रा में नहीं छोड़ रहा है। इस कारण दिल्ली के लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

एक सप्ताह भारी कमी delhi water crisis

जलमंत्री ने कहा कि अपर यमुना रिवर बोर्ड द्वारा मई 2018 को बुलाई गई 53वीं बैठक में समझौते के अनुसार, मुनक नहर के जरिए सीएलसी और डीएसबी नहरों के माध्यम से दिल्ली को लगभग 1050 क्यूसेक आवंटित किया गया था। लेकिन ट्रांसमिशन लॉस के कारण ये दिल्ली पहुंचते-पहुंचते लगभग 1013 क्यूसेक रह जाता है। इसे फ्लो मीटर के जरिए दिल्ली में बवाना कांटैक्ट पॉइंट पर मापा जाता है। और पिछले सप्ताह ही इन फ्लो मीटरों की जांच अपर यमुना रिवर बोर्ड के प्रतिनिधियों ने की थी। आतिशी ने कहा कि गर्मियों के समय बवाना कांटैक्ट पॉइंट पर पानी 980 से 1030 क्यूसेक के बीच मिलता है। लेकिन पिछले एक सप्ताह में इसमें भारी कमी आई है और ये 840 क्यूसेक पर आ गया है।

दिल्ली में सात वाटर ट्रीटमेंट प्लांट delhi water crisis

उन्होंने कहा कि दिल्ली में सात वाटर ट्रीटमेंट प्लांट है, जो उत्पादन के लिए यमुना के पानी पर निर्भर हैं। ऐसे में लगातार कम मिलते कच्चे पानी की कमी के कारण ये सातों प्लांट अपनी पूरी क्षमता पर नहीं चल पा रहे हैं। और जिस प्रकार दिल्ली को मुनक नहर से मिलने वाले पानी की मात्रा 1050 क्यूसेक से घटकर 840 क्यूसेक पर पहुंच गई है, इससे दिल्ली के सातों वाटर ट्रीटमेंट प्लांट पर्याप्त पानी का उत्पादन करने में असमर्थ हो जाएंगे। जलमंत्री ने कहा कि अगर आज हरियाणा ने पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं छोड़ा तो अगले 1-2 दिनों में दिल्ली में बड़ा संकट खड़ा हो जाएगा। इसलिए मेरा अनुरोध है कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मुनक नहर से दिल्ली के लिए 1050 क्यूसेक पानी छोड़ा जाना सुनिश्चित करें।

जल संकट पर चर्चा के लिए उपराज्यपाल से मांगा समय delhi water crisis

दिल्ली की जल मंत्री आतिशी ने राजधानी में मुनक नहर के जरिए अपर्याप्त मात्रा में पानी छोड़े जाने पर चर्चा के लिए उपराज्यपाल वी के सक्सेना के साथ एक आपात बैठक का समय मांगा है। मंत्री ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर एक पोस्ट में लिखा कि दिल्ली को इस नहर से 1,050 क्यूसेक पानी मिलना चाहिए, लेकिन यह घटकर केवल 840 क्यूसेक रह गया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली के उपराज्यपाल से आपात बैठक के लिए समय मांगा है ताकि हरियाणा द्वारा मुनक नहर से अपर्याप्त पानी छोड़े जाने के बारे में उन्हें अवगत कराया जा सके। मंत्री ने कहा कि दिल्ली को सीएलसी और डीएसबी उप-नहरों के माध्यम से मुनक नहर से 1,050 क्यूसेक पानी मिलना चाहिए लेकिन यह घटकर 840 क्यूसेक हो गया है। सात जल शोधन संयंत्र इस पानी पर निर्भर हैं। अगर पानी की मात्रा आज नहीं बढ़ती है तो एक या दो दिन में पूरी दिल्ली में जल संकट और गहरा जाएगा। बढ़ते तापमान के बीच दिल्ली को पानी की कमी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि उपराज्यपाल केंद्र सरकार के प्रतिनिधि हैं। उनसे हस्तक्षेप करने और स्थिति को सुलझाने का अनुरोध किया जाएगा।

Also read: Haryana UG College Admission 2024 Online Form

Also read: सरकार की बड़ी नियम राशन कार्ड में फिर से E-KYC करना होगा वरना रद्द भी होना शुरू how to E-KYC Ration Card haryana

Also read: Bekaaboo web series story lyrics in hindi

Also read: घर से कैसे दूर करें कलह क्लेश, गृह शांति के उपाय जानिए How to remove discord from home

Also read: आपके पानी में बैक्टिरिया है तो इसे शुद्ध कैसे करें आइए जानते हैं पूरी प्रक्रिया how to purify water

Follow us: Youtube Facebook

About Post Author

Anjana Kashyap

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %