Former minister Kailash Chaudhary
0 1 min 2 mths
0 0
Spread the love
Read Time:3 Minute, 39 Second

चंडीगढ़(Abhay Chautala spoke against BJP) इनेलो के प्रधान महासचिव अभय चौटाला के चुनावी अभियान को गुरुवार को उस समय बल मिला जब सर्वहित पार्टी ने प्रेसवार्ता कर इनेलो को लोकसभा चुनाव में समर्थन का ऐलान कर दिया। पूर्व मंत्री स्व. तेजी मान के बेटे बोनी मान ने अभय चौटाला को समर्थन व लोगों से अभय चौटाला के समर्थन में वोट की अपील की।
अभय चौटाला ने सर्वहित पार्टी के अध्यक्ष जसबीर तंवर एवं बोनी मान का आभार जताया। इस दौरान अभय चौटाला ने कहा कि यह चुनाव देश में सच व झूठ का चुनाव है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गारंटी को भाजपा ने इस चुनाव में मुख्य मुद्दा बनाया है।
लोगों को इस बात का पता है कि नरेंद्र मोदी ने अपने पहले चुनाव में 15 लाख की राशि हर खाते में भेजने की बात कही थी। आज तक किसी के खाते में पैसा नहीं आया। मोदी ने 2 करोड़ लोगों को रोजगार की बात कही थी। आज तक किसी को रोजगार नहीं मिला।
स्मार्ट सिटी बसाने की बात कही थी। आज तक कहां हैं स्मार्ट सिटी? अनेक ऐसी गारंटियां थीं जो आज तक पूरी नहीं हुर्इं। अब नई गारंटी कैसे सफल होंगी? अभय चौटाला ने कहा कि नवीन जिंदल के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि यह कोयला चोर है। सरकार बन गई तो इससे चंदा ले लिया। चंदा भी हजारों-करोड़ के रूप में दिया है। जिस किसी ने पैसा नहीं दिया, भाजपा ने उसके घर पर ईडी भेज दी। जिसने पैसा दे दिया, ईडी वालों को कहा कि इसे छोड़ दो। नवीन जिंदल से भी पहले पैसा ले लिया और बाद में गले में पटका डाल दिया और कहा कि कुरुक्षेत्र जाकर चुनाव लड़ लो। आज नवीन जिंदल छुट्टी लेकर 16 तारीख तक विदेश में है।
भाजपा वालों ने ऐसी वॉशिंग मशीन रखी हुई है जिसमें भाजपा वाले बेईमानों को धोने का काम करते हैं। उन्होंने इस मशीन में गंगाजल डालकर 35 मिनट नवीन जिंदल को डाला और पहले जिसे कोयला चोर कहा था, अब उसे कोहिनूर बना दिया।
यदि वह कोयला चोर था तो अब भाजपा उसे उम्मीदवार बनाकर देश के साथ छलावा कर रही है। नवीन जिंदल व सुशील गुप्ता पर निशाना साधते हुए अभय चौटाला ने कहा कि दोनों ही नेताओं का लोगों से कोई सरोकार नहीं है। उन्होंने कहा कि इस एरिया में हाईवे के लिए जमीन अधिग्रहण के समय उचित कीमत के लिए लोगों ने तीतरम मोड़ पर धरना दिया। उस समय न कभी नवीन जिंदल आया और न ही सुशील गुप्ता आए। वे स्वयं इस धरने में अपने विधायकों के साथ पहुंचे थे और विधानसभा में जब तक सरकार ने बात नहीं मानीं, तब तक काम नहीं चलने दिया था।

About Post Author

Anjana Kashyap

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %